मेरी बात:


आयो कहॉं से घनश्‍याम

प्रशंसक

सोमवार, 19 मई 2008

महान हस्तियों के प्रेरक प्रसंग

अकबर इलाहाबादी एक मशहूर शायर होने के साथ साथ एक सरकारी मुलाजिम भी थे। उनके घर अक्सर कई लोगों का आना जाना लगा रहता था। एक बार एक सज्जन उनके घर मिलने आए। अकबर उस समय जनानखाने में थे। उन सज्जन ने अपना कार्ड अन्दर भिजवाया जिस पर उनका नाम और पता तो लिखा ही था पर नाम के बगल में बीए कलम से लिखा हुआ था। अकबर साहब ने जब कार्ड देखा तो उनको उन महाशय की यह हरकत बड़ी नागवार गुजरी। वे बाहर नहीं आए बल्कि कार्ड के पीछे यह लिख कर भिजवा दिया-

शेख जी घर से न निकले और ऐसे लिख दिया,
आप बी-ए- पास हैं तो में भी बीवी पास हूँ।

कोई टिप्पणी नहीं: