मेरी बात:


आयो कहॉं से घनश्‍याम

प्रशंसक

शुक्रवार, 7 मई 2010

मुंबई लोकल

महाराष्ट्र राज्य हिंदी साहित्य अकादेमी द्वारा ३ मार्च, २०१० को घोषित विभिन्न पुरस्कारों के अंतर्गत पश्चिम रेलवे के जनसंपर्क विभाग द्वारा प्रकाशित हिंदी पुस्तक 'मुंबई लोकल' के लिए इसके लेखक विमल मिश्र को 'रिपोर्ताज' श्रेणी का काका कालेलकर स्मृति पुरस्कार प्रदान किया गया है। श्री विमल मिश्र 'नवभारत टाइमस' के वरिष्ठ रिपोर्टर हैं।

'मुंबई लोकल' एक काफी टेबल बुक है। इस पुस्तक में 'नवभारत Times' के मुंबई संस्करण में 'स्टेशन नामा' स्तम्भ के अंतर्गत सिलसिलेवार छपे मुंबई के तमाम उपनगरीय स्टेशनों के इतिहास की जानकारी दुर्लभ छायाचित्रों के साथ संग्रहीत की गयी है। भारतीय रेल विशेषकर मुंबई की उपनगरीय सेवा के इतिहास में दिलचस्पी रखने वालों के लिए यह एक अच्छी पुस्तक है। इस प्रकार की पुस्तकें प्रायः अंग्रेज़ी में प्रकाशित होती रहती हैं। हिंदी में इस तरह का यह संभवतः पहला प्रयास है। इसके लिए पश्चिम रेलवे तथा श्री विमल मिश्र बधाई के पात्र हैं।

('भारतीय रेल' के मार्च २०१० अंक से साभार)

कोई टिप्पणी नहीं: