मेरी बात:


आयो कहॉं से घनश्‍याम

प्रशंसक

शुक्रवार, 17 दिसंबर 2010

पंडित नेहरु की हाज़िरजवाबी

एक बार पंडित नेहरु स्वतन्त्रता संग्राम आन्दोलन के दौरान तमाम सत्याग्रहियों के साथ जेल में बंद थे. जेल में कैदियों को खाने में जो रोटी मिलती थी उसमे मिटटी मिली होती थी. कुछ सत्याग्रहियों ने इसकी चर्चा पंडित नेहरु से की. नेहरू जी ने जब जेलर से इस बात की शिकायत की तो जेलर ने व्यंग्य भरे लहजे मे उत्तर दिया, "आप लोग यहाँ मातृभूमि की सेवा करने आते हैं, इस तरह की शिकायतें करने नहीं."  पंडित नेहरू ने जो उत्तर दिया,  उससे उनकी हाज़िरजवाबी और देशप्रेम का एक साथ परिचय मिलता है. उन्होंने कहा, "जनाब, आपको भी मालूम होना चाहिए कि हम यहाँ मातृभूमि की सेवा करने आते हैं उसे खाने नहीं."

2 टिप्‍पणियां:

उपेन्द्र ' उपेन ' ने कहा…

pt. nehru ji ki hazir jababi to kafi prasidh hai.... achchha laga yeha par is hazir jababi ko padkar.......... sunder prastuti.

ZEAL ने कहा…

बढ़िया प्रसंग !