मेरी बात:


आयो कहॉं से घनश्‍याम

प्रशंसक

बुधवार, 19 जनवरी 2011

नीरज भाई, बेधड़क टिप्‍पणियां लिखिये

पिछले सप्‍ताह नीरज बसलियाल जी ने मेरी एक पोस्‍ट पर टिप्‍पणी करते हुए लिखा था कि मैं अपनी टिप्‍पणी सेटिंग्‍स से वर्ड वेरिफिकेशन हटा दूँ, इससे पाठकों को टिप्‍पणी लिखने में सुविधा होगी और पाठक संख्‍या  बढेगीा

नीरज भाई। आपके सुझाव के अनुसार मैनें वर्ड वेरिफिकेशन हटा दिया हैा अब आप और दूसरे ब्‍लागर भाई- बन्‍धु मेरी पोस्‍ट पर आराम से टिप्‍पणी लिख सकते हैंा

सुझाव के लिए नीरज भाई आपको बहुत बहुत धन्‍यवाद ।

कोई टिप्पणी नहीं: