मेरी बात:


आयो कहॉं से घनश्‍याम

प्रशंसक

शुक्रवार, 11 मार्च 2011

सच्ची प्रसन्नता का रहस्य

 सर हेनरी वाटन की कविता 'Characters Of A Happy Life' उ.प्र. बोर्ड की इंटरमीडिएट कक्षा में पढ़ी थी और उससे मैं बहुत प्रभावित हुआ. सीधे सरल शब्दों में रची गयी यह कविता एक वास्तविक सुखी जीवन के रहस्य को बयां करती है. आज इतने बरसों बाद भी यह कविता मेरे जेहन में बसी हुई है. इस  कविता का मैंने भावानुवाद करने का प्रयास किया है. आशा है पाठकों को पसंद आएगा. उक्त भावानुवाद को पढने के लिए कृपया नीचे लिंक पर जाएँ -






कोई टिप्पणी नहीं: