मेरी बात:


आयो कहॉं से घनश्‍याम

प्रशंसक

रविवार, 10 अप्रैल 2011

गुरुदेव की 'गीतांजलि' से


मुक्‍त मन-मस्तिष्‍क हो भय से जहॉं,
गर्व से उन्‍नत जहॉं पर भाल हो।
ज्ञान भी उन्‍मुक्‍त मिलता हो जहॉं,
जाति मजहब का न कोई सवाल हो।
शब्‍द निकलें सत्‍य के ही गर्भ से
श्रेष्‍ठता को हर कोई तैयार हो।
तर्क ही आधार हो स्‍वीकार का,
रूढि़यों से मुक्‍त जन-व्‍यवहार हो।
देशवासी सब प्रगति पथ पर बढ़ें,
शान्ति, उन्‍नति, प्रेम के आसार हों।
हे प्रभू, लेकर तुम्‍हारी प्रेरणा,
स्‍वर्ग ऐसा देश में साकार हो।

4 टिप्‍पणियां:

aarkay ने कहा…

गुरुदेव रविन्द्रनाथ टैगोर की कालजयी कविता का बढिया अनुवाद.
मूल कविता का प्रभाव ज्यों का त्यों है .

Kajal Kumar ने कहा…

सुंदर प्रस्तुति

ZEAL ने कहा…

Excellent translation of a wonderful creation ..thanks.

swatantra kumar ने कहा…

प्रिय मौर्य जी,

इस उत्कृष्ट वेब-साइट के लिये आभार एवं धन्यवाद.

बचपन में साठ के दशक में उपरोक्त आ. रविन्द्रनाथ टैगोर द्वारा रचित प्रर्थना अंग्रेजी में हमारे स्कूल ' राजेश्वर विध्यालय- महू -इन्दोर के पास म.प्र.' में प्रार्थना के रूप में सम्भवतः शाम के समय अथवा साप्ताहिक बोली जाती थी. यादें ताजा करने के लिये पुनः आभार.

सुबह की प्रार्थना के समय गुरु जी द्वारा रचित एक अन्य प्रार्थना हिन्दी में बोली जाती थी ( जिसका अंग्रेजी संभावित संसकरण नीचे दे रह हूं - मुझे नही मालूम है कि मूल रूप हिन्दी में है या अंग्रेजी में )जिसे मैं पिछ्ले काफी अर्से से पुनः खोज रहा हूं. कृप्या आप स्वयं अथवा कोइ पाठक मेरी मदद करें मैं ह्र्दय से आभारी रहुंगा. कृप्या पुस्तक का सन्दर्भ (SMS द्वारा भी) अथवा मूल भक्ति गीत प्रकाशित करने की कृपा करें. गीत में ईश्वर से वयक्तित्व के विकास, अन्याय के प्रतिकार एवं मानव जाती के कल्याण हेतु बार-बार "शक्ति" की याचना की गइ है. कुछ शब्द याद हैं... यथा ...... " शक्ति दो कि मैं ......."

संभावित अंग्रेजी सन्सकरण ः-

This is my prayer to You, O God—strike, strike at the root of poverty in my heart.
Give me the strength lightly to bear my joys and sorrows.
Give me the strength to make my love fruitful in service.
Give me the strength never to disown the poor or bend my knees before insolent might.
Give me the strength to raise my mind high above daily trifles.
And give me the strength to surrender my strength to Your will with love.

अगर मूल रूप यही अंग्रेजी संसकरण है तो कृपा कर अनुवाद कर दें

उत्तर की प्रतिक्षा में,
भवदीय ,
एस के सेठी
sethiestates@yahoo.com
मो. 09 80 60 80 60 8