मेरी बात:


आयो कहॉं से घनश्‍याम

प्रशंसक

मंगलवार, 29 नवंबर 2011

इंदिरा गोस्‍वामी जी का निधन

इन दिनों साहित्‍य और कला जगत की हस्तियों का हमसे बिछडना लगातार जारी है। गजल सम्राट जगजीत सिंह और असमिया संगीत के पुरोधा भूपेन हजारिका की असामयिक मौत से लोग उबरे भी न थे कि आज असमिया साहित्‍यकार ज्ञानपीठ पुरस्‍कार विजेता इन्दिरा गोस्‍वामी की मौत्‍ा की खबर ने हिलाकर रख दिया। इन्दिरा गोस्‍वामी न सिर्फ एक श्रेष्‍ठ साहित्‍यकार थीं बल्कि असम में शान्ति स्‍थापना की प्रयास में भी उनका योगदान रहा था। उल्‍फा को बातचीत के लिए राजी करने में उन्‍होंने मुख्‍य भूमिका निभाई थी। ज्ञानपीठ पुरस्‍कार मिलने पर उनकी विभिन्‍न रचनाओं के हिन्‍दी अनुवाद कई पत्र-पत्रिकाओं में छपे थे (जैसा कि किसी भी साहित्‍यकार के साथ होता है तब उसे कोई बडा पुरस्‍कार मिलता है) जिन्‍हें पढ़कर मैं उनसे बहुत प्रभावित हुआ था। अब जबकि वह हमसे दूर चली गई हैं, मुझे उनके साहित्‍य को खंगालने की उत्‍सुकता बढ़ गई है। ऐसा क्‍यों होता है कि हम किसी के जाने के बाद ही उसकी कमी महसूस करते हैं और उसके व्‍यक्तित्‍व और कृतित्‍व को अन्‍दर-बाहर से जानने का प्रयास करने लगते हैं ?

  खैर, इंदिरा जी को मेरी ओर से भावभीनी श्रद्धांजलि।

9 टिप्‍पणियां:

रश्मि प्रभा... ने कहा…

इंदिरा जी को मेरी श्रद्धांजलि

kshama ने कहा…

Indiraji ko meree orse bhee vinamr shraddhanjali.

डॉ0 मानवी मौर्य ने कहा…

मेरी ओर से भी श्रद्धांजलि।

उपेन्द्र नाथ ने कहा…

इंदिरा गोस्वामी जी को हार्दिक श्रद्धांजली. सच इंदिरा जी के निधन से असमिया साहित्य ने ही नहीं बल्कि पुरे भारतीय साहित्य ने एक महान लेखिका को खो दिया.

rashmi ravija ने कहा…

बहुत ही दुखद खबर
विनम्र श्रद्धांजलि

डॉ॰ मोनिका शर्मा ने कहा…

विनम्र श्रद्धांजलि......

Babli ने कहा…

बहुत दुखद ख़बर! इंदिरा जी को मेरी विनम्र श्रद्धांजलि!

ZEAL ने कहा…

विनम्र श्रद्धांजलि

अनूप शुक्ल ने कहा…

इंदिरा गोस्वामी की स्मृति को नमन!