मेरी बात:


आयो कहॉं से घनश्‍याम

प्रशंसक

शुक्रवार, 5 अक्तूबर 2012

समाधिस्‍थ शिव


लखनऊ में बख्‍शी का तालाब में स्थित चन्द्रिका देवी का मन्दिर एक प्रसिद्ध धार्मिक स्‍थल है। लखनऊ तथा दूसरे शहरों के लोग भी यहां देवी के दर्शन करने आते हैं। लेकिन मुझे देवी दर्शन के अलावा किसी अन्‍य कारण से भी वहां जाना अच्‍छा लगता है। मन्दिर के पीछे स्थित झील के किनारे  का शान्‍त और सुरम्‍य वातावरण  बहुत भाता है। मनोहारी झील में स्थित समाधिस्‍थ शिव की प्रतिमा भी कम आकर्षण का केन्‍द्र नहीं। मोबाइल में कैद कर ही लिया इस नयनाभिराम दृश्‍य को। 

3 टिप्‍पणियां:

चैतन्य शर्मा (Chaitanya Sharma) ने कहा…

बहुत सुंदर है.... बाबा को नमन

नीरज गोस्वामी ने कहा…

बहुत सुन्दर चित्र...

नीरज

बेनामी ने कहा…

लोग धर्म की आढ़ में ना जाने कोन कोन से कुकर्म और दुष्कर्म कर रहे हैं और इन्हें बढ़ावा भी हम देते हैं और इसका कारण हमारे समाज में फेला अंधविश्वास जिसे हमें मिलकर दूर करना हैं
पलाश जैन
jainpalash230@gmail.com